इस बार जन्माष्टमी पर कान्हा की नगरी में तीन दिन रहेगी धूमधाम

जन्माष्टमी पर मथुरा आने वाले लाखों तीर्थ यात्रियों को अभी तक जन्मस्थान पर दर्शन करने के अलावा कुछ भी अतिरिक्त देखने को नहीं मिलता था लेकिन इस बार तीर्थयात्रियों को यहां बहुत कुछ देखने को मिलेगा। वे ब्रज की तमाम सांस्कृतिक विधाओं से परिचित हो सकेंगे।

श्रद्धालु इस बार श्रीकृष्ण की 16 कलाओं से जुड़ी लीलाओं को मंचों पर देख सकेंगे। शहरभर में अलग-अलग 300 कलाकार अपनी प्रस्तुतियां देंगे। श्रद्धालु अगले तीन दिन तक भक्ति में विभोर होते रहेंगे।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर इस बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी यहां आ रहे हैं। यह पहला मौका है, जब भगवान श्रीकृष्ण की जन्मस्थली में उनके जन्मोत्सव पर प्रदेश के किसी मुख्यमंत्री का आगमन होने जा रहा है। मुख्यमंत्री के सुझाव के अनुरूप ही राज्य सरकार इस बार मथुरा में कान्हा के जन्मोत्सव को तीन दिवसीय आयोजन के रूप में मना रही है। सभी मंदिरों को सजाया जा रहा है। प्रवेश द्वार बन रहे हैं। इस आयोजन में सरकार के साथ मथुरावासियों की भागेदारी बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के सहयोग लिए जा रहे हैं। व्यापारी और दुकानदार दीवाली की तरह ही अपने व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बिजली की झालरों से सजाएंगे, जिससे मथुरा आने वाले कृष्ण भक्तों को मथुरा की अद्भुत चमक दिखाई दे।

कृष्ण जन्माष्टमी से पूर्व ही प्रेम मंदिर रंगबिरंगी रोशनी से जगमगा रहा है। जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण का अभिषेक एक हजार शंखध्वनि के मध्य होगा। देश-विदेश से कृष्ण जन्मोत्सव मनाने के लिए प्रेम मंदिर में करीब पांच हजार भक्त आ रहे हैं।

नंदगांव के नंदबाबा मंदिर, वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर को आकर्षक विद्युत की सजावटों से सजाया जा रहा है।

Related Items

  1. कान्हा की नगरी में पुनर्जन्म का किस्सा, ‘मनीष’ बनकर लौटा ‘मुख्तार’

  1. कान्हा की एक झलक पाने को बेताब रहे बृजवासी

  1. कान्हा के जन्मोत्सव में डूब ब्रजवासी

loading...