नहीं रुक पा रहा है प्रवासी मजदूरों का पलायन

पूर्णबंदी को लेकर बने अनिश्चितता के माहौल में भूख और एक अपरिभाषित डर की वजह से प्रवासी मजदूरों का पलायन रुक नहीं पा रहा है।

ऐसा ही एक दु:खद दृश्य तब दिखा जब मथुरा रेलवे पुलिस ने दर्जनभर से ज्यादा लोगों के एक समूह को रोका। ये लोग मथुरा से 225 किमी दूर मध्य प्रदेश के निवारी जिला स्थित अपने गांव के लिए पैदल ही निकल पड़े थे। इस समूह में आठ पुरुष, सात महिलाएं और करीब इतने ही बच्चे शामिल थे। मध्य प्रदेश में निवारी एक नया नवेला जिला है। पूर्व में यह टीकमगढ़ जिला की एक तहसील था।

इस समूह में से एक मजदूर 40 वर्षीय बालकृष्ण ने बताया कि वह और उनके गांव के ही कई साथी यहां मथुरा में पिछले 15 साल से किराये के मकान में रह रहे हैं। सभी लोग दिहाड़ी मजदूरी पर कई तरह के काम करते हैं। महीनेभर पहले लागू हुई देशबंदी के दौरान इन्हें काम मिलना बंद हो गया। पूरा एक महीना तो अपनी बचत के पैसों से जैसे-तैसे काट लिया। लेकिन, दोबारा पूर्णबंदी बढ़ाए जाने के बाद हौसला टूट गया। कई बार मदद मांगने की कोशिश की लेकिन मदद मिल नहीं पाई। हालात ये हो गए कि पिछले 24 घंटों से कुछ खाने तक को नहीं मिला तो पैदल ही अपने गांव लौटने का फैसला कर लिया।

loading...

इस बीच, जब यह अफवाह सुनी कि मध्य प्रदेश की सरकार ने फंसे हुए प्रवासी मजदूरों के लिए सीमा पर बसें लगा दी हैं तो चार से सात साल के बच्चों व जरूरी सामान समेटकर ये सब लोग चल दिए।

एक और मजदूर मूरत बताते हैं कि उन्होंने अपने साथियों सहित भोजन आदि के प्रबंध के लिए काफी प्रयास किए लेकिन कोई सफलता नहीं मिल पाई। इस बीच इतना जरूर हुआ कि इनके मकान मालिकों ने इनसे किसी प्रकार के किराये आदि की मांग नहीं की। इसके लिए बात करते समय ये मजदूर इनके शुक्रगुजार होना नहीं भूलते हैं।

इधर, जब कई अधिकारियों से बातकर इन लोगों के लिए राशन आदि की व्यवस्था करने की कोशिश की गई तो अधिकारी एकदूसरे का फोन नंबर बताते रहे और देर शाम तक इन लोगों के पास किसी भी प्रकार की कोई राहत सामग्री नहीं पहुंच पाई। यहां तक कि कई स्थानीय समाजसेवियों की तरफ से भी इन्हें कोई राहत नहीं मिल सकी। बाद में, कुछ स्थानीय लोगों व पड़ोसियों ने ही सम्मिलित रूप से इनके दिनभर के खाने की व्यवस्था की।

आज के दिन तो इन मजदूरों और इनके परिवारों को खाना मिल गया है लेकिन कल के दिन की अनिश्चितता इनके चेहरों पर साफ देखी जा सकती है।


Related Items

  1. इमारत मजदूर मौत

  1. ‘वैश्विक भारत’ की अवधारणा को बल दे रहे हैं प्रवासी भारतीय

  1. दुर्घटना में मजदूर की मौत

loading...