अन्याय के विरुद्ध विरोध करने की प्रेरणा गाथा है बिरसा मुंडा का जीवन

वह दौर गुलामी का था। उस समय जंगल के भीतर बिरसा मुंडा, ब्रिटिश हुकूमत के विरुद्ध प्रतिरोध का सबसे सशक्त स्वर बनकर उभरे थे। उन्होंने आदिवासी अस्मिता की रक्षा के लिए ही कदम नहीं उठाया, बल्कि उन्हें आर्थिक,सामाजिक और शैक्षिक रूप से सबल बनाने के लिए भी हरसंभव प्रयास किया। पूरा आलेख पढ़ने के अभी "सब्सक्राइब करें", महज एक रुपये में अगले पूरे 24 घंटों के लिए...

Subscribe now

Login and subscribe to continue reading this story....

Already a user? Login


Related Items

  1. किसानों का विरोध प्रदर्शन कहीं एक ‘राजनीतिक स्टंट’ तो नहीं...!

  1. हिंदू अस्मिता या गंगा-जमुनी तहजीब : क्या है आगे का रास्ता!

  1. जीवन की आश्वस्ति तो न यहां है, और ना ही वहां...