पूरी दुनिया में धर्म और जाति के नाम पर तमाम लड़ाई-झगड़े और बड़े-बड़े युद्ध होते रहे हैं। स्वतंत्र भारत में भी आजादी के साथ-साथ धर्म के नाम पर हुए बंटवारे के बाद से ही हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच एक चौड़ी खाई बनने लगी थी।

Read More

चौरासी कोस परिक्रमा के तहत राजस्थान की सीमा में आने वाले इस स्थान से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद गांव विलोंद के निकट एक पर्वत पर भगवान केदारनाथ शेषनाग रूपी एक विशाल श्वेत पत्थर की चट्टान के नीचे छोटी से गुफा में विराजमान हैं।

Read More

ब्रज क्षेत्र में कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई से एक बात तो बिल्कुल साफ हो गई है कि वर्षों से चली आ रही परंपराओं के लिए मनुष्य नहीं बना है, बल्कि मानव व उनके सांस्कृतिक उन्नयन के लिए विभिन्न परंपराओं का विकास किया गया है।

Read More

समूचे बृज क्षेत्र में होली के हुड़दंग की धूम मची हुई है। हजारों वर्षों से बृज की धरती पर होली खेली जाती रही है। इतिहास के बादल गुजरते चले गए, संस्कृति और परम्पराओं में बदलाव आता रहा किन्तु बृज के कण-कण में आज भी राधा-कृष्ण का प्रेम व होली जनमानस के मन-मस्तिक पर अमिट छाप लिए बनी हुई है।

Read More

होली का त्योहार हो और हंसी-ठिठोली न हो, भला ऐसे कैसे हो सकता है। लेकिन, त्योहार की मस्ती में हमें मर्यादाओं को कतई नहीं भूलना चाहिए। यहां हम आपको चार ऐसी बातें बता रहे हैं जिनका ध्यान आपको होली खेलते समय जरूर रखना चाहिए।

Read More

भगवान शिव जितने सौम्य और शांत हैं, उतने ही क्रोधी भी हैं। उनका व्यक्तित्व ऐसा है जिसे अगर समझा जाए, तो हम जीवन के सत्य के काफी करीब पहुंच सकते हैं। महाशिवरात्रि के पर्व पर आप शिव की स्तुति करने के साथ आप उनसे काफी कुछ सीखकर प्रेरणा ले सकते हैं...

Read More
loading...