‘मुक्त छंद’ छंद मुक्त कविता नहीं है। जब हम मुक्त छंद कहते हैं तो हम छंद की परिधि में होते हैं। 'परिमल' की भूमिका में निराला ने एक मार्मिक बात कही कि मुक्त छंद से काव्य में एक स्वाधीन चेतना आती है।

Read More

अपने प्रियतम से जुदा होने के बाद हमसफर द्वारा कोई पैगाम तक न भेजे जाने के बाद के भावों को प्रकट करती हुई कुमार आकाश की एक शानदार कविता पेश है।

Read More

जज्बातों का तूफान इधर भी होता है और उधर भी, लेकिन कोई इन जज्बातों के इजहार की जिद करता है तो कोई रुसवाई के डर से इन्हें छुपाने के लिए मिन्नतें करता है। कुमार आकाश की यह कविता कुछ ऐसे ही भाव दर्शाती है।

Read More

रोज कमाने और खाने वाले लोग शहरों को छोड़कर अपने गांवों की ओर निकल पड़े हैं। ऐसे में युवा कथाकार सविता पांडे की ये तीन लघु कथाएं परिस्थितियों का बहुत खूबसूरत चित्रांकन करती हैं।

Read More

देश में कोरोना संकट के चलते लोग अपने घरों में बंद हो गए हैं। लोग अपने दोस्तों व परिजनों से मिल नहीं पा रहे हैं। प्रेमी और प्रेमिकाओं का मिलना भी मुश्किल हो गया है। ऐसे में युवा कथाकार सविता पांडे की ये तीन लघु कथाएं परिस्थितियों का बहुत खूबसूरत चित्रांकन करती हैं।

Read More

बंकिमचंद के दोस्त दीनबंधु मित्र बड़े विनोदी स्वभाव के थे और कभी-कभी उनसे भी विनोद करने से न चूकते थे।

Read More
loading...