किसानों का विरोध प्रदर्शन कहीं एक ‘राजनीतिक स्टंट’ तो नहीं...!

किसान सड़कों पर उतरकर नए कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। लेकिन, ये पंजाब के किसान हैं। यूपी, बिहार, महाराष्ट्र या कर्नाटक के किसान इस तरह का विरोध नहीं कर रहे हैं। क्यों नहीं कर रहे हैं, यह सवाल है। क्या पंजाब के किसान नए कृषि कानूनों को समझ नहीं पा रहे हैं? इसके विपरीत, केंद्र सरकार विरोध कर रहे इन किसानों को क्यों नहीं समझा पा रही है? क्या किसानों की आड़ में नेतागिरी हो रही है? असली समस्या क्या है? इसका हल क्या है? ऐसे ही कई सवालों पर विचार-विमर्श के लिए आज हमारे साथ हैं वरिष्ठ पत्रकार प्रियरंजन झा। पूरा आलेख पढ़ने और साक्षात्कार में भाग लेने के लिए अभी सब्सक्राइब करें, मात्र एक रुपये में...

Subscribe now

Login and subscribe to continue reading this story....

Already a user? Login


Related Items

  1. अन्याय के विरुद्ध विरोध करने की प्रेरणा गाथा है बिरसा मुंडा का जीवन

  1. राजनीतिक ‘हिन्दूकरण’ के प्रबल पक्षधर थे सावरकर

  1. आम बजट 2018-19 : किसानों की बढ़ी आशा, मध्यम वर्ग को हाथ लगी निराशा