साहित्य सृजन को समर्पित हैं मैथिली लेखिका वीणा ठाकुर

साहित्य सृजन एक साधना है। व्यक्ति जीवन की आंच पर तपता है और उन अनुभूतियों को शब्दों के सांचे में ढालकर पाठकों के सम्मुख प्रस्तुत करता है। लेखक अपने अनुभवों को, ठीक-ठीक पाठकों तक पहुंचा दे तो सृजन का एक उद्देश्य सफल होता है। इस आलेख को पूरा पढ़ने के लिए अभी 'सब्सक्राइब करें' महज एक रुपये में, अगले पूरे 24 घंटों के लिए...  

Subscribe now

Login and subscribe to continue reading this story....

Already a user? Login


Related Items

  1. जन्म से लेकर मृत्युपर्यन्त तक मानव जीवन का मधुर सहगामी है संगीत

  1. अन्याय के विरुद्ध विरोध करने की प्रेरणा गाथा है बिरसा मुंडा का जीवन

  1. भोजपुरी फिल्में और भाषायी साहित्य की संवेदना