अपने में अनोखा है अरावली के मध्य स्थापित परशुराम महादेव मंदिर

राजस्थान की अरावली पर्वतमाला के मध्य में अनोखा परशुराम महादेव मंदिर स्थित है। माना जाता है कि त्रेता युग में परशुराम इस मंदिर में बनी गुफा के रास्ते से यहां आए थे। यहां बैठकर उन्होंने भगवान शिव की आराधना की और उन्हें प्रसन्न करके अमरत्व का वरदान व प्रसिद्ध फरसा सहित कई दिव्यास्त्र प्राप्त किए।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण परशुराम ने अपने इसी फरसे से एक बड़ी चट्टान को काटकर किया था। बाद में, इस मंदिर का नाम परशुराम महादेव मन्दिर पड़ा।

गुफा का ऊपरी भाग गाय के थन के समान प्रतीत होता है। इस गुफा मंदिर के अंदर ही भोलेनाथ शिवलिंग के रूप में विराजमान हैं। शिवलिंग के ऊपर गोमुख है, जहां से प्राकृतिक रूप से शिवलिंग का जलाभिषेक होता है। मंदिर से कुछ दूरी पर मातृकुंडिया नाम का एक स्थान है। माना जाता है कि मातृहत्या के पाप से मुक्ति परशुराम को यहीं मिली थी।

परशुराम ऋषि-मुनियों के कहने पर मातृहत्या के दोष निवारण के लिए यहां आए थे। उनको अरावली पवर्तमालाओं में मौजूद मातृकुंडिया नदी में स्नान करके शिव की आराधना करनी थी। यह स्थान आज राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले में आता है। वह स्नान करके गुफा के रास्ते आए थे। गुफा फिलहाल बंद हो चुकी है। अब गुफा में महज 5-7 मीटर तक ही अन्दर जा सकते हैं। यह मन्दिर दो जिलों राजसमंद व पाली की सीमाओं के बीच स्थित है। मन्दिर का परिसर करीब तीन किलोमीटर परिधि में फैला हुआ है।

पहाड़ी पर बसे इस गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 600 सीढ़ियां हैं। नीचे तीन कुण्ड हैं, जो 12 महीने पानी से भरे रहते हैं। यहां आने के दो रास्ते हैं। एक मारवाड़ वालों के लिए जो 1600 मीटर का है और दूसरा मेवाड़ से आने वालों के लिए 1200 मीटर का है। यह मन्दिर समुद्र से करीब 4000 फुट की ऊंचाई पर हैं। पहाड़ी पर बसे इस गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए पहाड़ी पर करीब 2-2.5 किमी की चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। इसके चलते, इस मंदिर गुफा तक पहुंचने के लिए एक छोटा ट्रेकिंग अनुभव भी लिया जा सकता है।

यहां भगवान गणेश का एक पवित्र मंदिर और नौ कुंड भी हैं। इन कुंडों की सबसे खास बात यह है कि ये कभी सूखते नहीं हैं। बारिश के दिनों मे यहां स्वर्ग से भी सुन्दर माहौल बन जाता है। नजदीक ही कुम्भलगढ राष्ट्रीय उद्यान है। यह कुम्भलगढ़ दुर्ग से 10 किलोमीटर, पाली से करीब 120 और रणकपुर से सात किलोमीटर की दूरी पर है। इसे ‘राजस्थान का अमरनाथ धाम’ भी कहा जाता है।

गुफा की दीवार पर एक राक्षस की छवि अंकित है। माना जाता है कि इस राक्षस को भगवान परशुराम ने मारा था। पहाड़ी के दुर्गम रास्ते से होते हुए भक्त यहां शिवलिंग के दर्शन के लिए आते हैं। महाशिवरात्रि और परशुराम जंयती के अवसर पर यहां श्रद्धालुओं का अच्छा-खासा जमावड़ा लगता है। प्राकृतिक दृष्टि से देखा जाए तो मंदिर का पहाड़ी स्थान काफी खूबसूरत है। आत्मिक और मानसिक शांति के लिए यह जगह आदर्श मानी जाती है।

भादों और सावन के महीनों में यहां बेहद सुन्दर माहौल बन जाता है। चारों ओर हरियाली छा जाती है और कल-कल बहते झरने और भी सुन्दर हो जाते हैं।

परशुराम के इस गुफा मंदिर को लेकर कई धार्मिक मान्यताएं हैं। एक मान्यता के अनुसार वही व्यक्ति भगवान बद्रीनाथ के कपाट खोल सकता है जिसने परशुराम महादेव मंदिर के दर्शन किए हों। एक अन्य मान्यता के अनुसार यहां मौजूद शिवलिंग में एक छिद्र है जिसमें पानी के हजारों घड़े डालने पर भी वह छिद्र नहीं भरता जबकि दूध का अभिषेक करने पर उस छिद्र के अंदर दूध नहीं जाता। पौराणिक मान्यता के अनुसार यह वही स्थान है जहां परशुराम ने कर्ण को शस्त्र शिक्षा दी थी।

यहां सावन महीने की छठ को मेला आयोजन होता है, जो करीब दो महीने तक चलता है। दो महीने के दौरान यहां प्रतिदिन 30 हज़ार के आस-पास श्रद्धालु आते हैं।

परशुराम गुफा मंदिर कुंभलगढ़ किले से लगभग नौ किमी की दूरी पर सादरी-परशुराम गुफा रोड पर स्थित है। आप यहां तीनों मार्गों से पहुंच सकते हैं। यहां का नजदीकी हवाई अड्डा उदयपुर एयरपोर्ट है। रेल मार्ग के लिए आप फलना या रानी रेलवे स्टेशन का सहारा ले सकते हैं। आप चाहें तो यहां सड़क मार्ग से भी पहुंच सकते हैं। उदयपुर के रास्ते आप यहां बस या टैक्सी के द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं। बाहर से आए श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए यहां दो धर्मशालाएं बनी हुई है जिनमें करीब 1500 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है।


Related Items

  1. एक ऐसा मंदिर जो देखते ही देखते हो जाता है गायब...

  1. ‘पागल बाबा’ और उनके मंदिर की अजब कहानी

  1. मीरा के कृष्ण प्रेम का प्रतीक है वृंदावन का मीराबाई मंदिर