फिल्म में ‘मोदी’, ‘योगी’ शब्दों के इस्तेमाल पर सेंसर बोर्ड को एतराज

साई एंटरटेनमेंट बैनर तले निर्मित भोजपुरी फ़िल्म 'सबपे भारी जनेऊ धारी' पर फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने जमकर कैंची चलाई है। सेंसर बोर्ड ने फिल्म के एक गाने में ‘मोदी’ और ‘योगी’ शब्दों पर आपत्ति दर्ज कराई है।

फिल्म के गीत “देश पुकार रहा है बच्चों करने के लिए सलाम, तुम में ही कोई मोदी जी कोई योगी जी कोई भाभा कलाम” में मोदी, योगी और कलाम के नाम का जिक्र हुआ है। इस पर आपत्ति जताते हुए सेंसर बोर्ड ने गाने से इन शब्दों को हटाने का निर्देश दिया है। इसके अलावा नए संसद भवन के उद्घाटन के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अख़बारों में छपी तस्वीर वाली क्लिप को भी फिल्म से हटाने के लिए कहा गया है। इस फिल्म में ऐसे एक नहीं, कई दृश्य हैं, जिनको सेंसर बोर्ड ने पास नहीं किया है और इन्हें फिल्म से अलग करने को कहा है।

फिल्म के निर्माता व निर्देशक अजय सिन्हा ने बताया कि मोदी 70 साल से अधिक उम्र में भी जिस कार्यकुशलता से काम कर रहे हैं, वह अभूतपूर्व है। योगी भी स्कूल के दिनों में 100 में 100 नंबर लाते थे। इस गाने में वीर सावरकर, सुभाष चंद्र बोस, सरदार पटेल जैसे लोगों का भी जिक्र किया गया था। लेकिन, सेंसर बोर्ड ने फिलहाल यह हिस्सा हटवा दिया है। अब गीत के बोल बदले जा रहे हैं।

सामाजिक मुद्दों पर आधारित फिल्म 'सबपे भारी जनेऊ धारी' में केंद्रीय भूमिका में अजय सिन्हा, सूरज के शाह, शालू सिंह, प्रशांत राज, संतोष श्रीवास्तव, अनुराधा यादव, प्रमोद सिंह टाइगर, संतोष वर्मा, प्रमोद औसाहरी, नैनु शुक्ला, सत्य प्रकाश सिंह, ललई सिंह, अरुण सिंह, सोनू व अनामिका तिवारी हैं।

संगीतकार साजन मिश्रा, गीतकार धरम हिंदुस्तानी व अजय सिन्हा हैं। पटकथा व संवाद लीला सिन्हा और अजय सिन्हा ने लिखे है। छायांकन मनीष के व्यास, संकलन ब्रिजेश मालवीय, एक्शन श्रवण कुमार, नृत्य अर्जुन चौधरी, कॉस्ट्यूम संतोष वर्मा, डीआई हेमन्त थापा, पार्श्व संगीत राजा राम यादव, स्थिर चित्रण आरजी राव का है।

Related Items

  1. सुनें : मोदी की गलतियां भांपने में विपक्ष रहा है नाकाम

  1. इन पांच कारणों से आपके फेफड़ों को होता है भारी नुकसान…

  1. आशा और निराशा के बीच राहत की खोज करती है फिल्म ‘कैचिंग डस्ट’


Mediabharti